नवाबों की आरामगाह थी कचनारिया कोठी, अब बन चुकी है आराम बाग

नवाबाें की शानो-शौकत के किस्से तो अक्सर भोपाल के पटियेबाजों से सुनने को मिल जाते हैं, लेकिन अगर आप इस नवाबी ठाठ बाट को अनुभव करना चाहते हैं, तो आपको विदिशा रोड स्थित आराम बाग का रुख करना चाहिए। आराम बाग को कचनारिया कोठी के नाम से भी जाना जाता है। 10 आलीशान कमरों और एक बड़े हाल को खुद में संजोए इस कोठी को 1902 में बनाया गया था।

वाइस रॉय के लिए बनाई गई थी कोठी : 


कचनारिया कोठी को भोपाल की बेगम ने 1902 में एक ब्रिटिश वाइस रॉय की खास मेहमान नवाजी के लिए बनाया था। दरअसल वाइस रॉय सांची, उदयगिरी और सतधारा के जंगलों में घुमाने जाना चाहते थे और इस दौरान उन्हें बाघ का शिकार भी करना था। इसलिए वाइस रॉय को भोपाल रियासत में किसी तरह की दिक्कत न हो। इसलिए इस जगह को एक बेहतरीन आराम गाह में तब्दील कर दिया गया। 

एक भी बाघ नहीं मार पाए थे वाइस रॉय : 


यहां के बुजुर्ग वाइस रॉय से जुड़े एक किस्से को बताते हुए हंसते हैं बजुर्गों के अनुसार वाइस रॉय यहां शिकार खेलने के उद्देश्य से आए थे। इस दौरान उनके सिर पर बाघ का शिकार करने का जुनून था। हालांकि कई दिनों तक जंगलों की खाक छानने पर उन्हें एक भी बाघ नहीं मिला, लेकिन इस दौरान इंग्लैंड के अखबारों में युवराज के तीन बाघों को मारने की खबर जरूर छप गई थी। 

यह भी पढ़ें : साइकिलिंग में टाइमिंग की मुश्किल को खत्म करने शहर की लेडीस ने बनाया पावनी

राजस्थानी संस्कृति में ढल गई विरासत : 


वर्तमान में इसका स्वामित्व जयपुर के पचार ग्रुप के पास है, जिसके बाद इस रियासत कालीन कोठी को राजस्थानी संस्कृति में ढाल दिया गया है। आराम बाग में दाखिल होते ही यहां राजस्थानी राजघराने के दर्शन होने लगते हैं। वहीं इसके पास सांची, सतधारा और उदयगिरी जैसी प्राचीन विरासतें भी स्थित हैं। जिन्हें देखने के लिए आने वालों के लिए यह एक बेहतरीन होटल है। 

लग्जरी सूइट हैं मौजूद : 


16 एकड़ में फैली इस कोठी में 10 कमरों की बुकिंग की सुविधा है, जिसमें से 4 लक्सरी सूइट में विंटेज फर्नीचर के साथ एक छोटा पूल और सभी आधुनिक सुविधाएं मौजूद हैं। वहीं 6 कमरों में छोटे पूल को छोड़ बाकी सारी सुविधाएं मौजूद हैं। कोठी के चारों ओर खेत खलिहान मौजूद हैं। साथ ही पीछे एक बड़ा बगीचा भी मौजूद है। वर्तमान में यह 16 एकड़ क्षेत्र में बनी हुई है। 

यह भी पढ़ें : लोक कलाओं को जीवंत करने वाले कपिल तिवारी और भूरी बाई को पद्मश्री सम्मान

बॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग से आई चर्चा में : 


इस जगह पर अक्सर बॉलीवुड फिल्माें और वेबसीरीज की शूटिंग चलती रहती है। भोपाल में शूट हुई रिवॉल्वर रानी की शूटिंग भी इसी कोठी में की गई थी। हाल ही में हुमा कुरैशी अभिनीत वेब सीरीज महारानी की शूटिंग भी यहीं की गई थी। वर्तमान में कई भोजपुरी फिल्माें की शूटिंग इस जगह पर होने वाली है। आसपास शांत वातावरण और वन्य क्षेत्र होने के कारण कलाकारों को यहां काम करने में भी काफी मजा आता है।

यह भी पढ़ें : चाय के लिए अब बिस्किट कप, काब्रोहाइड्रेट की एनर्जी के साथ पर्यावरण की रक्षा

 Latest Stories