दानिश कुंज में असामाजिक तत्वों ने की 20 से ज्यादा पेड़ों को सुखाने की तैयारी

कोलार के दानिश कुंज क्षेत्र में असामाजिक तत्वों द्वारा पेड़ों को सुखाने के उद्देश्य से पेड़ों के तने को छीलना शुरू कर दिया गया है। जानकारी के मुताबिक इसके पहले भी ग्रीन बेल्ट क्षेत्र में मकान-दुकान तैयार करने के लिए पेड़ों को सुखाया जा चुका है। वहीं गत दिनों दानिश कुंज में 20 से ज्यादा पेड़ों को छीलकर सुखाने की तैयारी कर ली गई है।   
आरटीआई कार्यकर्ता और पर्यावरण प्रेमी राशिद नूर खान ने बताया कि पिछले दो-तीन दिन से इस तरह की गतिविधियां जारी थीं। जब उन्होंने 30 जनवरी को बारीकी से देखा तो ग्रीन बेल्ट क्षेत्र में 20 से ज्यादा पेड़ों के तनों को छीलने का प्रयास असामाजिक तत्वों द्वारा किया गया है। राशिद ने इस संबंध में अज्ञात लोगों के विरुद्ध शिकायत करने की तैयारी भी कर रहे हैं। 


पेड़ों को हटाने के बाद किया जाएगा निर्माण कार्य : 
जानकारी के अनुसार जिस जगह पेड़ों को छीला गया है। वहां कुछ दुकानों का निर्माण कार्य किया जाना है। ऐसे में प्रापर्टी मालिक ने ही पेड़ों को सुखाने के उद्देश्य से तना छिलवाया है। दरअसल हरे-भरे पेड़ों की कटाई से पर्यावरण प्रेमियों की नाराजगी को देखते हुए उन्हें सुखाने की तैयारी की गई है। ताकि इन्हें आसानी से हटाया जा सके। 

रुक जाता है पोषक तत्वों को आवागमन : 
वनस्पति शास्त्र की विशेषज्ञ डॉ. कीर्ति जैन इस संबंध में बताती हैं कि पेड़ों पर कीलें ठोंकने से या उनका तना छीलने से उनके टिशु डेमेज हो जाते हैं। किसी मनुष्य की नसों को काट देने से जैसी स्थिति उस व्यक्ति की होगी। वैसी ही स्थिति इन पेड़ों की भी हो जाती है। तना छीने के बाद से पेड़ों के सूखने या डेड होने की संभावना 90 फीसदी से ज्यादा बढ़ जाती है।

 Latest Stories