भोपाल को मॉर्डन बनाने सीएम शिवराज ने रखी कई नए विकास कार्यों की नींव

भोपाल को एडवेंचर टूरिज्म का डेस्टीनेशन बनाया जाएगा। साथ ही भोपाल में नए 150 पार्क विकसित किए जाएंगे। इससे शहर की हरियाली बढ़ेगी। साथ ही नए विकास कार्य भोपाल की पहचान बन जाएंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में विभिन्न विकास कार्यों के लोकार्पण के दौरान यह बात कही।

सीएम ने जानकारी देते हुए बताया कि राजधानी भोपाल में कुल 200 करोड़ की लागत से अलग-अलग सड़कों का निर्माण कार्य चल रहा है। आने वाले समय में 600 नई बसें भोपाल में चलेंगी, जिनमें से 300 सीएनजी बसें चलेंगी। वहीं 14 एकड़ में फैले दशहरा मैदान को 26 करोड़ खर्च कर विकसित किया जाएगा।


अब बुलेवर्ड स्ट्रीट नहीं अटल पथ कहिए :
मुख्यमंत्री ने सबसे पहले प्लेटिनम प्लाजा से झरनेश्वर मंदिर को जोड़ने वाले रोड का लोकार्पण करते हुए कहा कि अब इस रोड को  बुलेवर्ड स्ट्रीट नहीं बल्कि इसका नाम अटल पथ होगा।

अटल पथ की चौड़ाई 45 मीटर और लंबाई 1.6 किमी है। इस सड़क के तीन भाग होंगे। पहला गाड़ियों के लिए, दूसरा सायकिल के लिए तथा तीसरा पैदल राहगीरों के लिए अलग मार्ग होगा। इस रोड पर आम लोगों के लिए पीने का पानी, एटीएम, बस स्टॉप, सायकिल स्टेशन और बैठने के लिए कुर्सियां लगाई गई हैं।

वीआईपी रोड पर सोलर प्लांट से बचेंगे 77 लाख रुपए :
इसके बाद सीएम ने वीआईपी रोड पर सोलर प्लांट को शुरू किया। इस सोलर प्लांट से कर्बला पंप को चलाया जाएगा। गाैरतलब है कि भोपाल स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कार्पोरेशन लिमिटेड ने बड़े तालाब के किनारे वीआईपी रोड पर 1540 सोलर एनर्जी पैनल लगाए हैं। प्लांट की क्षमता 500 किलोवॉट है।


सोलर प्लांट से हर माह 75 हजार यूनिट बिजली का उत्पादन किया जाएगा। इस प्रोजेक्ट की लागत 2.6 करोड़ रूपए है। गौरतलब है कि वीआईपी रोड पर लगी स्ट्रीट लाईट्स भी सोलर एनर्जी से रोशन हो रही हैं। इस सोलर प्लांट के शुरू होने से साल के 76 लाख 65 हजार रुपए बचेंगे।

करोंद में 17.45 करोड़ से बनेगा आरओबी :
सीएम ने 823 मीटर लंबे करोंद रेलवे ओवर ब्रिज का भूमिपूजन किया। 17.45 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाला यह आरओबी 18 माह में बनकर तैयार होगा और इसका फायदा यहां से रोजाना गुजरने वाले 5 लाख लोगों को मिलेगा। करोंद मंडी के पास देवकी मंदिर से निशातपुरा तक बनने वाले  इस आरओबी के दोनों ओर 5.5 मीटर चौड़ी सर्विस रोड भी बनेगी। इसके बाद सीएम चौहान ने भानपुर खंती का भी निरीक्षण किया।

पुराने भोपाल के लिए बनेगा सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट :
सीएम ने इस दौरान माहोली दामखेड़ा में 35 एमएलडी क्षमता के सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का शुभारंभ किया। 47.86 करोड़ की लागत से बने इस सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट से जहांगीराबाद, जेपी नगर, शाहजहांनाबाद, ईदगाह हिल्स, हमीदिया हॉस्पिटल और साजिदा नगर से निकलने वाले सीवेज का ट्रीटमेंट किया जाएगा।

इसके बाद सीएम ने गोविंदपुरा में बने कचरा निष्पादन संयंत्र का लोकार्पण किया। भोपाल स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कार्पोरेशन द्वारा गोविंदपुरा, बाबा नगर तथा ईदगाह हिल्स पर आधुनिक ट्रांसफर स्टेशन का निर्माण निर्माण कराया गया है। यहां आधुनिक गाड़ियों के माध्यम से सूखा व गीला कचरा अलग-अलग लाया जाएगा। जिन्हें विशेष वाहनों के माध्यम से आदमपुरा खंती भेजा जाएगा। इस पूरी  प्रक्रिया की ऑनलाइन मॉनीटरिंग स्मार्ट सिटी कंट्रोल रूम से की जाएगी।

यह काम भी होंगे :
इसके अलावा भोपाल में 36 सड़कें पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन के लिए बनाई जा रही हैं। शहर में 15 नए रैन-बसेरे और तीन दीनदयाल रसोई  बनाई जा रही हैं। इलेक्ट्रिक वाहनों के के लिए 67 चार्जिंग स्टेशन बनाए जाएंगे। अयोध्या बायपास के लिए लगभग 600 करोड़, कोलार रोड के लिए 414 करोड़, बैरागढ़ के लिए 264 करोड़ और कोच फैक्ट्री के लिए 105 करोड़ की राशि सड़कों, फ्लाईओवर के लिए खर्च की जाएगी।