जेपी के हरिदेव को नहीं, हमीदिया के संजय को लगा प्रदेश का पहला टीका

हमीदिया अस्पताल के कोविड ब्लॉक में संजय यादव के टीकाकारण के साथ ही प्रदेश में कोविड वैक्सीन टीकाकरण अभियान की शुरुआत कर दी गई। इस मौके पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ ही स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग और वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा भी विशेष रूप से मौजूद थे। 


कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के पहुंचने के कारण प्रशासन और पुलिस सहित जनसंपर्क के कई वरिष्ठ अधिकारी भी मौके पर मौजूद थे। हालांकि मुख्यमंत्री पहले सिंगरौली में टीकाकरण अभियान की शुरुआत करने वाले थे, लेकिन बाद में कार्यक्रम में हुए बदलाव के कारण उन्होंने हमीदिया अस्पताल से ही टीकाकरण अभियान की शुरुआत की।

पहले जेपी में हरिदेव को लगना था प्रदेश का पहला टीका : 
प्रदेश का पहला टीका पहले जेपी अस्पताल के सुरक्षा कर्मी हरिदेव यादव को लगना था, लेकिन स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी के हमीदिया अस्पताल में होने के कारण हमीदिया के वार्ड बॉय संजय यादव को प्रदेश का पहला टीका। व्यवस्थाओं से नाराज हरिदेव यादव ने बाद में टीकाकरण से ही इंकार कर दिया। बाद में मनाने पर वे टीकाकरण के लिए मान गए। 


बाद में स्वास्थ्य मंत्री जेपी अस्पताल पहुंंचे और उनकी मौजूदगी में सफाई कर्मी सन्नू खरे और हरिदेव यादव को टीका लगाया गया। इन दोनों के अलावा अस्पताल के चिकित्सकों, नर्स और अन्य कर्मचारियों को भी टीका लगाया गया। आधे घंटे के आब्जर्वेशन के साथ ही सभी को घर जाकर आराम करने की सलाह दी गई। पंडित खुशीलाल शर्मा आयुर्वेदिक संस्थान में डॉ. नितिन मारवाह को प्रथम वैक्सीन लगाई गई। 

डॉ. अजय गोयनका ने भी लगवाई वैक्सीन : 
चिरायु अस्पताल के संचालक डॉ. अजय गोयनका ने भी कोरोना वैक्सीन लगवाई। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि यह वैक्सीन दुनिया की सबसे सुरक्षित और असरकारक वैक्सीन है।


हमीदिया अस्पताल में पदस्थ डॉ. डीके पाल को भी वैक्सीन लगाई गई। 60 वर्षीय डॉ. पाल ने वैक्सीनेशन के बाद कहा कि इसे लगवाने के बाद किसी भी तरह के साइड इफेक्ट सामने नहीं आ रहे हैं। 


सीएमएचओ ने भी लगवाई वैक्सीन :
सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर तिवारी ने स्वास्थ्य अपर सचिव मोहम्मद सुलेमान की मौजूदगी में वैक्सीन लगवाई। वहीं नर्मदा अस्पताल के संचालक डॉ. राजेश शर्मा भी टीकाकरण अभियान का हिस्सा बने।


बैरागढ़ सिविल अस्पातल में प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने वैक्सीन अभियान का शुभारंभ किया। इस मौके पर डॉ. जीए अर्गल को पहली वैक्सीन लगाई गई। 

12 सेंटर पर लगा राहत का टीका : 
एम्स अस्पातल, चिरायु मेडिकल कॉलेज, जेपी हॉस्पिटल, हमीदिया कम्युनिटी हेल्थ सेंटर, भोपाल मेमोरियल हॉस्पिटल, जवाहर लाल नेहरू अस्पताल, सुल्तानिया अस्पताल, बैरसिया कम्युनिटी हेल्थ सेंटर, गांधी नगर कम्युनिटी हेल्थ सेंटर, पंडित खुशीलाल शर्मा आयुर्वेदिक अस्पताल, गांधी मेडिकल कॉलेज और हमीदिया अस्पताल और बैरागढ़ सिविल अस्पताल। 

वहीं मप्र में 150 जगहों पर टीका लगाने की व्यवस्था की गई है।

यह भी पढ़ें : हमीदिया की नई बिल्डिंग में सारे ब्लॉक आपस में होंगे कनेक्टेड, जून तक पूरा होगा काम

सप्ताह में चार दिन चलेगा टीकाकरण अभियान : 
कोविड वैक्सीन टीकाकरण अभियान सप्ताह में चार दिन संचालित किया जाएगा। अन्य टीकाकरण अभियान प्रभावित न हों, इसके लिए सप्ताह में चार दिन टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा। 

5 चरणों में पूर्ण होगा वैक्सीनेशन : 
वैक्सीनेशन की प्रक्रिया सभी स्थानों पर 5 चरणों में पूर्ण होगी। पहले चरण में पार्टिसिपेंट के एसएमएस को देखा जाएगा। उसके बाद पहचान पत्र दिखाने को कहा जाएगा। इन दोनों की जांच के बाद वैक्सीन लगाया जाएगा। वैक्सीनेशन के बाद पार्टिसिपेंट को 30 मिनिट तक डॉक्टर्स के ऑब्जर्वेशन में रहना होगा। उसके बाद वे घर जा सकेंगे। सभी स्वास्थ्य कर्मचारियों की जांच करने की जिम्मेदारी विभिन्न सरकारी अधिकारियों को दी गई है।  

यह भी पढ़ें : भोपाल में 30 हजार स्वास्थ्य कर्मचारियों को सबसे पहले लगेगी कोरोना वैक्सीन

वहीं वैक्सीन को आइस  बॉक्स में लाया जाएगा। पहले चरण में सभी स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन लगाई जा रही है। उसके बाद फ्रंट लाइन वर्कर्स को वैक्सीन लगाई जानी है, जिनमें पुलिस और अन्य बल शामिल हैं। इसके बाद अन्य लोगों को वैक्सीन लगाई जानी है। आम लोगों में सबसे पहले 50 साल से अधिक उम्र के लोगों को पहले वैक्सीन लगाई जानी है। 
 
वहीं एक सेंटर पर लगभग 100 लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। वैक्सीनेशन के बाद अगले दिन अवकाश रखा जाएगा। अर्थात पहले फेस के वैक्सीनेशन में 16, 18 ,20 और 23 जनवरी को टीका लगाए जाने की तैयारी है। गौरतलब है कि वैक्सीन लगवाने के लिए सबसे पहले पार्टिसिपेंट को COWIN APP पर जानकारी अपलोड करनी होगी।

मप्र में 4.2 करोड़ वैक्सीन हो सकती हैं स्टोर :
मप्र सरकार ने पूरे प्रदेश में 4.2 करोड़ वैक्सीन स्टोर करने की व्यवस्था कर ली है। मप्र में 302 स्वास्थ्य केंद्रों और 1149 पॉइंट्स पर टीकाकरण होगा। भोपाल की तरह अन्य जिलों में भी वैक्सीनेशन सुचारू रूप से चले इसके लिए राज्य स्तरीय कंट्रोल रूम बनाया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें : स्वास्थ्य मंत्री ने बताया आखिर कब लगेगा मंत्रियों और अधिकारियों को टीका...?

 Latest Stories