स्वास्थ्य मंत्री ने बताया आखिर कब लगेगा मंत्रियों और अधिकारियों को टीका...? 

कोरोना वायरस टीके के ट्रायल और टीकाकारण शुरू होने से पहले ही लोग इसे लेकर तरह तरह के कयास लगा रहे हैं। सोशल मीडिया पर टीके को लेकर लोगों ने जोक्स और चुटकुले भी बनाना शुरू कर दिए हैं। इन चुटकुलों में सबसे ज्यादा छीटाकसी राजनेता और अफसरों पर ही की जाती है। इसी छीटाकसी को लेकर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी को सफाई देना पड़ गई है। 

स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ने एक कार्यशाला के दौरान मीडिया के एक सवाल पर जवाब देते हुए बताया है कि मंत्रियों और सरकार के अफसरों को भी आम लोगों की तरह आखिर में ही टीका लगाया जाएगा। 

आखिर में लगेगा नेताओं, मंत्रियों और अधिकारियों को टीका :
स्वास्थ्य मंत्री चौधरी ने बताया कि कई लोग पूछ रहे हैं कि मंत्रियों और अधिकारियों को क्या सबसे पहले टीका लगेगा? मैं उन लोगों को बताना चाहता हूं कि पहले फेस में केवल फ्रंट लाइन वर्कर्स और सबसे ज्यादा रिस्क वाले लोगों को टीका लगाया जाएगा। सबसे आखिर में आम लोगों के साथ नेताओं, मंत्रियों और अधिकारियों को टीका लगाया जाएगा। 

दरअसल स्वास्थ्य मंत्री होटल पलाश में कोविड-19 टीकाकरण पर आयोजित मीडिया कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उनके साथ चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग भी थे। 

गर्भवती और 18 साल से कम उम्र वालों को राहत :
पूरे देश के साथ मप्र में भी 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान शुरू हो रहा है। ऐसे में सबसे पहले फ्रंट लाइन वर्कर्स और फिर किसी पुरानी बीमारी से पीड़ित लोगों को टीका लगाया जाएगा। आखिर में आम लोगाें को टीका लगाया जाएगा। हालांकि गर्भवती महिलाओं और 18 साल से कम उम्र वालों को टीका नहीं लगाया जाएगा। 

जानकारी देते हुए चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने बताया कि वहीं यदि किसी को सर्दी जुकाम है तो उसे ठीक होने के 4 सप्ताह बाद टीका लगाया जाएगा। पहले फेस में 4 लाख 16 हजार लोगों को टीका लगेगा, जिसमें से 3 लाख 31 हजार सरकारी कर्मचारी हैं। वहीं शेष निजी कर्मचारी हैं।

 Latest Stories