रेत-गिट्टी सप्लायर के चंगुल में करोंद उपनगर, चालानी कार्रवाई के बाद निगम के हौसले ठंडे 

राजधानी का करोंद उपनगर अतिक्रमण कारियों के चंगुल में है। इसके कारण रोजाना होने वाली दुर्घटनाओं से रहवासी परेशान हैं। लाेगों के अनुसार इस संबंध में नगर निगम के जोन कार्यालय के साथ ही निगम कमिश्नर को भी कई बार आवेदन दिए जा चुके हैं। लेकिन समस्या का समाधान नहीं हुआ। 

रहवासियों के अनुसार करोंद उपनगर के चारों ओर रेत-गिट्‌टी सप्लायर की दुकानें खुल गई हैं। इन विक्रेताओं ने निशातपुरा फाटक से लेकर करोंद चौराहे तक और विश्वकर्मा नगर से 80 फिट रोड से जोड़ने वाली सड़क पर रेत और गिट्‌टी से अतिक्रमण कर रखा है। नतीजतन सड़कों और फुटपाथ पर निकलने की जगह नहीं बची है। जिसके कारण रोजाना दो पहिया चालक गिर रहे हैं और गंभीर रूप से घायल हो रहे हैं। 

सड़कों के बाद अब निजी प्लाटों पर भी अतिक्रमण : 
रहवासियों की मानें तो रेत गिट्‌टी सप्लायर्स ने अब निजी प्लाटों पर रेत उतारना शुरू कर दी है। जिसके कारण लोगों को परेशानी हो रही है। वहीं कॉलोनी की सड़काें की फुटपाथ और 80 फिट रोड की सर्विस रोड को भी अतिक्रमण करने वालों ने कब्जे में ले लिया है। इसके कारण वाहन चालकों को बहुत परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। 

(अतिक्रमण के चंगुल में सब्जी मंडी के पीछे स्थित 80 फिट रोड की सर्विस रोड।)

रहवासी कुणाल परियानी के मुताबिक हाउसिंग बोर्ड से देवकी नगर, मोतीलाल नगर पुलिया, करोंद चौराहा, 80 फिट रोड सहित कई अन्य क्षेत्र भी भारी अतिक्रमण की चपेट में हैं। इस कारण अक्सर बच्चे और दोपहिया सवार घायल हो जाते हैं। 

आम आदमी पर ही चलता है निगम का डंडा :  
रहवासियों के अनुसार गत दिनों निगम अमला विश्वकर्मा नगर स्थित प्रसून पार्क पहुंचा था। यहां पार्क में रखी रेत पर निगम अमले ने कार्रवाई करते हुए 500 रुपए का चालान बनाया था। इस दौरान रहवासियों और निगम अमले के बीच जोरदार विवाद हुआ था। लोगोंं का आरोप था कि कंस्ट्रक्शन मटैरियल सप्लायर पर कोई कार्रवाई नहीं करता है, लेकिन आम आदमी पर तेजी से चालानी कार्रवाई कर दी गई।

(विश्वकर्मा नगर कल्याण समिति के अध्यक्ष सुनील सिंह जाट)

विश्वकर्मा नगर कल्याण समिति के अध्यक्ष सुनील सिंह जाट के अनुसार निगम आम लोगों को बिल्कुल मौका नहीं देता है। जबकि बड़े व्यापारियों पर कार्रवाई करने से घबराता है। इससे आम लोगों के मन में निगम के प्रति गलत छवि बन रही है। 

पैर पसार रहा अतिक्रमण निगम को जानकारी ही नहीं : 
इस संबंध में Agnito Today ने जब एएचओ आशिफ नजीर से बात की तो उन्होंने बताया कि कंस्ट्रक्शन मटेरियल सप्लायर भी कार्रवाई की गई है। निशातपुरा से करोंद तक और 80 फिट रोड पर स्थित रेत-गिट्‌टी वालों से कुल 40 हजार रुपए तक जुर्माना वसूल किया गया है। नजीर के अनुसार करोंद उपनगर से अतिक्रमण कम तो हुआ है। 

(करोंद क्षेत्र में कुछ इसी तरह फुटपाथ पर भी अतिक्रमण किया गया है)

वहीं अतिक्रमण के फिर से पैर पसारने के सवाल पर वे संतोष जनक जवाब नहीं दे सके। नजीर के अनुसार इस संबंध में वे जल्दी ही एक बार फिर से चालानी कार्रवाई करने की तैयारी में हैं।

 Latest Stories