नौकरी दिलाने के नाम पर करते थे ठगी, भोपाल पुलिस ने नोएडा में दबोचा 

नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों की ठगी करने वाले फर्जी कॉल सेंटर संचालक को भोपाल की साइबर क्राइम टीम ने नोएडा से गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार आरोपियों में एक पुरुष और चार महिलाएं हैं, जो जल्दी पैसे कमाने की चाह में ठगी की वारदात को अंजाम देते थे। भोपाल साइबर क्राइम ब्रांच टीम से मिली जानकारी के मुताबिक भोपाल निवासी सुनील मालवीय ने साइबर थाने पहुंचकर शिकायत की थी कि एक कॉलसेंटर संचालक ने उन्हें इंडिगो एयरलाइंस में नौकरी दिलाने के नाम पर 42 हजार रुपए की ठगी कर ली है, जिसके बाद क्राइम ब्रांच ने इसकी जांच शुरू की।  

क्राइम ब्रांच द्वारा की गई जांच में सामने आया कि नोएडा में आरोपी दो जगह पर कॉल सेंटर संचालित कर रहे थे। ठगी का यह धंधा लगभग दो साल से
ग्लासडॉर व वर्क इंडिया कम्पनी के नाम से चल रहा था, जिसमें आरोपियों ने देश भर के विभिन्न राज्यों के करीबन 5 सौ लोगों से एक करोड़ रुपए की ठगी से वसूल चुके हैं।

जांच में अब तक 25 वर्षीय जितेंद्र कुमार तिवारी पिता ओमप्रकाश तिवारी, नई दिल्ली, 24 वर्षीय कामिनी त्रिपाठी पिता दिनेश कुमार त्रिपाठी, नई दिल्ली, 22 वर्षीय काजल भंडारी पिता हरिनारायण भंडारी, नई दिल्ली, 19 वर्षीय अंजली कुमारी पिता अभिलाख ओझा और 23 वर्षीय ज्योति कुमारी पिता मनोज सिंह हरियाणा का नाम सामने आया है। 

ऐसे देते थे वारदात को अंजाम : 
आरोपी आम लोगों को नौकरी दिलाने के नाम पर फेक वेबसाइट बनाकर गूगल एड के माध्यम से विज्ञापन देते हैं। जब कोई व्यक्ति वेबसाइट पर जाकर नौकरी के फार्म सबमिट करता था, तो आरोपी अपने कॉलसेंटर से उस व्यक्ति को कॉल कर ऑनलाइन इन्टरव्यू लेते थे। बाद में फर्जी डॉक्यूमेंट सेंड कर इंडिगो एयरलाईन, एचडीएफसी, आईसीआईसी बैंक और अन्य संस्थानों में नौकरी दिलाने का झांसा देकर रजिस्ट्रेशन फीस, फाइल चार्ज, एग्रीमेंट चार्ज, इंश्योरेंश फीस के नाम पर धोखाधड़ी से राशि ट्रांसफर करा लेते हैं। 

 Latest Stories