भोपाल के खेड़ापति हनुमान, भक्तों को देते हैं राजयोग

हनुमान जी को कलयुग को देवता माना गया है। कलयुग में संकटों से मुक्ति के लिए हनुमान जी की पूजा अर्चना करने की सलाह दी जाती है। भोपाल में भी छोला स्थित खेड़ापति सरकार अपने भक्तों के संकट हरने के लिए जाने जाते हैं। इतना ही नहीं खेड़ापति हनुमान जी अपने भक्तों को राजयोग का भी सुख देते हैं। भाजपा हो या कांग्रेस, दोनों ही दलों के बड़े नेता संकट में फंसने पर खेड़ापति सरकार की ही शरण में आते हैं। 
इस मंदिर में रोजाना हजारों लोग आते हैं, लेकिन मंगलवार को लगभग 75 हजार से 1 लाख लोग हनुमान जी का दर्शन करते हैं। धीरे धीरे यह संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।
(छोला रोड स्थित खेड़ापति सरकार )

खेड़ापति सरकार ने किसी को बनाया मंत्री तो कोई बना महापौर : 
वर्तमान सरकार में मंत्री विश्वास सारंग और पूर्व मंत्री पीसी शर्मा की इस मंदिर के प्रति विशेष श्रद्धा है। सारंग तो अपनी युवावस्था से ही मंदिर के साथ जुड़ गए थे। उसके बाद वे पार्षद, विधायक और मंत्री बने। इसी तरह पूर्व मंत्री पीसी शर्मा भी हनुमान जी की कृपा से पार्षद, विधायक और फिर मंत्री भी बने। 

इनके अलावा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती, प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा, पूर्व महापौर आलोक शर्मा, रमेश शर्मा गुट्‌टू भैया सहित कई राजनीतिज्ञ समय-समय पर खेड़ापति सरकार के दर्शन करने आते रहते हैं। 

नवाबी शासन काल से भी पुराना है खेड़ापति सरकार का मंदिर : 
बताया जाता है कि जब भोपाल शहर बसाया गया खेड़ापति सरकार उससे भी पहले भोपाल की सीमा पर विराजमान हैं और तब से ही भोपाल के लोगों की रक्षा करते चले आ रहे हैं। किवंदतियों के अनुसार मंदिर लगभग 1 हजार साल पुराना माना गया है, लेकिन इसके 300 साल से यहीं स्थित होने के प्रमाण मंदिर समिति के पास हैं। 

(मंदिर प्रांगण में मौजूद यह गौशाला 200 साल पुरानी है।)
200 साल पुरानी गौशाला आज भी है मौजूद  : 
यह प्रतिमा स्थापित नहीं की गई है, बल्कि हनुमान जी की यह प्रतिमा यहां स्थित पलाश के पेड़ के नीचे स्वयं प्रकट हुई है। साथ ही मंदिर में एक गौशाला भी है, जो लगभग 200 साल पुरानी है। जिसकी स्थापना की सारी जानकारी मंदिर समिति के पास है। साथ ही एक बड़ी गौशाला की स्थापना डुंगरिया जबलपुर रोड पर की गई है



 Latest Stories