भोपाल में घूमने की योजना बना रहे हैं तो आपके लिए ही बने हैं, भोपाल के ये 11 शानदार पर्यटन स्थल

भोपाल: झीलों के लिए जाना जाने वाला ये अदभुद शहर वास्तुकला, स्मारकों और ऐतिहासिक स्थानों के कई पर्यटक आकर्षणों का घर है। भोपाल शहर भारतीय राज्य मध्य प्रदेश की राजधानी होने के साथ अपनी खूबसूरती के लिए भी पूरे देश में जाना जाता है।

अगर आप भोपाल में नए हैं और यहां घूमने की लम्‍बी योजना बना रहे हैं तो हम यहां आपके लिए कभी न खत्‍म होने वाली जगहों की सूची लेकर आए हैं।

यहां जाने भोपाल शहर के उन पर्यटन स्‍थलों के बारे में जो इस शहर को सबसे खास बनाते हैं-

  1. बड़ा तालाब

भोपाल में सबसे प्रसिद्ध स्थानों में से एक, बड़ा तालाब है जिसे स्थानीय रूप से 'भोजताल' या 'अपर लेक' कहा जाता है। अपनी खूबसूरती के पहचाना जाना वाला यह स्‍थान भोपाल में सबसे बड़ी मात्रा में लोगों को आ‍र्कषित करता है। यह भारत की सबसे पुरानी मानव निर्मित झील है। माना जाता है कि 11 वीं शताब्दी में, राजा भोज ने इस झील का निर्माण किया था।

  1. बिड़ला मंदिर

भोपाल में घूमने के लिए सबसे अधिक आकर्षक स्थानों में से एक, प्रसिद्ध बिड़ला मंदिर शानदार परिसर का एक हिस्सा है जहां भगवान शिव, देवी पार्वती और भगवान लक्ष्मी-नारायण के पवित्र दर्शन करने का एक अदभुद नजारा देखने को मिलता है।

अरेरा हिल्स में स्थित, शांत निचली झील के ऊपर भव्य संग्रहालय है, जहां से आपकी आँखों के सामने भोपाल के खूबसूरत शहर का विहंगम दृश्य दिखाई देता है।

  1. ताज-उल-मस्जिद

ताज-उल-मस्जिद भारत की सबसे बड़ी मस्जिद है, जो भोपाल में 7065 वर्ग मीटर क्षेत्र में स्थित है। जामा मस्जिद जिसे ताज-उल-मस्जिद के नाम से भी जाना जाता है, भोपाल में मीनारों और संगमरमर के गुंबदों वाली एक लोकप्रिय मस्जिद है।  मस्जिद में एक विशाल प्रांगण है, जो संगमरमर के फर्श से सुसज्जित है और स्तंभों पर बारीक नक्काशी है। कोई आश्चर्य नहीं कि यह भोपाल में सबसे प्रसिद्ध स्थानों में से एक है।

  1. वन विहार राष्ट्रीय उद्यान

वन विहार राष्ट्रीय उद्यान भोपाल शहर में एक खुला राष्ट्रीय उद्यान है, जिसमें लगभग 5 किमी का क्षेत्र शामिल है। बाघ, शेर, भालू, लकड़बग्घा, मगरमच्छ, घड़ियाल, सांप, अजगर जैसे सभी जानवरों के दृश्‍य का लुफ्त आप यहां उठा सकते हैं।

इसके अलावा आप यहां विदेशी फूलों की प्रजातियों के के साथ ब्लैकबक, चेटल, सांभर, पोरचीनी, जंगली सूअर, और हाइना जैसे वन्यजीवों के साथ वक्‍त बिता सकते हैं। ट्रेकिंग के लिए भी यह एक आदर्श और एडवेंचर से भरा हुआ स्थान है।

  1. भोजेश्वर शिव मंदिर, भोजपुर

भोजपुर के भव्य शिव मंदिर में दुनिया का सबसे बड़ा शिवलिंग है, जो भोपाल से 28 किमी दूर है। भोजपुर शिवलिंग 5.5 मीटर (18 फीट) लंबा और 2.3 मीटर (7.5 फीट) परिधि में है और इसे एक ही चट्टान से बाहर निकाला गया है। भोजपुर मंदिर भी भोपल शहर के सबसे प्रसिध्‍द स्‍थानों में से एक जहां भारी संख्‍या में पर्यटक घूमने जाते हैं।

  1. द ग्रेट स्तूप, सांची

भोपाल में यात्रा करने के लिए सबसे अधिक चर्चित स्थानों में से एक, सांची जो संभवतः पूरे भारत में, इसकी प्रचीनता के लिए जाना जाता है। इसकी स्‍थापना तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में की गई थी भवन का निर्माण मौर्य राजवंश के महान सम्राट अशोक के शासनकाल में हुआ था और यह देश के सबसे उल्लेखनीय बौद्ध स्मारकों में से एक है। स्तूप के विशाल गुंबद में एक केंद्रीय तिजोरी है जहां भगवान बुद्ध के अवशेष रखे गए हैं।

इस स्‍थान को घूमे बिना भोपान में आपकी यात्रा पूरी नहीं हो सकती है।

  1. शौकत महल

भोपाल में इस्लामी वास्तुकला की प्रमुखता के बीच एशियाई और पश्चिमी स्थापत्य कला की एक सुंदर विसंगति, शौकत महल भोपाल में सबसे अधिक पर्यटन स्थलों में से एक है।

प्रसिद्ध क्षेत्र की  इमारत, सिकंदर बेगम के शासनकाल में बनाया गयी थी, साथ ही साथ जटिल नक्काशी के साथ यह रेनेसंस और गॉथिक शैलियों का एक अनूठा मिश्रण प्रदर्शित करता है, जो इसके शानदार चेहरे को सुशोभित करता है।

  1. रायसेन का किला

भोपाल से 23 किमी की दूरी पर स्थित, सुंदर रायसेन किला एक वर्धमान पहाड़ी के ऊपर बसा है, जो कुछ मंदिरों से घिरा है, और इसके कुंडों में कई कुएँ और एक विशाल जलाशय है। ऐसा कहा जाता है कि यह किला 800 साल से भी अधिक पुराना है, किला एक मंदिर और एक मस्जिद को आश्रय देता है।

प्रसिद्ध मुस्लिम संत हज़रत पीर फतेहुल्ला शाह बाबा के मंदिर के रूप में प्रसिद्ध यह किला लोगों की मान्यताओं का एक गढ़ है। किले ने 13 वीं शताब्दी में अपनी स्थापना के बाद से कई शासकों का शासन देखा है। इतिहास, संस्कृति और धर्म के संरक्षक के लिए आदर्श, रायसेन किला घूमने के लिए एक अच्‍छा स्‍थान है।

  1. भीमबेटका रॉक शेल्टर्स, रायसेन

भीमबेटका के रॉक शेल्टर्स रायसेन जिले में रातापानी वन्यजीव अभयारण्य के अंदर स्थित हैं। भीमबेटका शैल आश्रयों भोपाल से 45 किलोमीटर की दूर स्थित है जो प्राचीन सभ्‍यताओं को एक अच्‍छा उदाहरण है।

  1. हलाली डैम

भोपाल में वीकेंड मनाने का प्‍लान है तो हलाली डैम आपके लिए ही बना है। यहां एक बहुत बड़ा जलाशय देखने को मिलता है जो हलाली नदी पर बनाया गया है, जो एक अद्वितीय अनुभव की गारंटी देता है, चाहे आप नौका विहार करने के जाते हैं, या बस एक छोटी पिकनिक मनाने के लिए! विशाल 699 वर्ग किमी का स्थान एक मनमोहक सुंदर दृश्य के जाना जाता है।

यह स्थान मृगल, रोहू, चीतल और मिस्टस जैसे विभिन्न समुद्री जीवन का भी घर है। ऐसा माना जाता है कि राजा मोहम्मद खान नवाद ने इस नदी के किनारे दुश्मन ताकतों का कत्लेआम किया था, जिसे इसने 'हलाली नदी' का नाम दिया गया।

  1. उदयगिरि गुफाएं, विदिशा

उदयगिरि गुफाएं प्राचीनतम हिंदू गुफा मंदिर हैं, जो विदिशा शहर में स्थित हैं। यह पर्यटक स्थल भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के लिए जाना जाता है साथ ही अभयारण्यों की एक श्रृंखला देखने के लिए भी यह पर्यटकों को आर्कषित करता है।